Home / Antarvasna Hot Sex Story - Adult Sex Stories / सेक्स के तीन रंग

सेक्स के तीन रंग

दोस्तो, मैं दिल्ली में रहती हूँ, शादीशुदा हूँ। मेरे पति और मैं दोनों काफी खुले विचारों के हैं, इसी लिए जब शादी के बाद हम घूमने के लिए गोवा गए, तो हमें वहाँ एक और कपल मिला, उनकी वजह से ही हम गोवा के एक वाइफ़ स्वैपिंग क्लब में गए जहाँ पहली बार मैंने अपने पति के सामने किसी और मर्द से सेक्स किया।

पहली बार था, थोड़ा अजीब ज़रूर लगा, मगर इसमें मजा भी बहुत आया। मेरे पति किसी और औरत के साथ सेक्स कर रहे थे, हम दोनों बीच बीच में एक दूसरे को देख लेते थे, कभी मैं अपने पार्टनर का लंड चूस रही थी और मेरे पति मुझे देख रहे थे, कभी वो अपनी पार्टनर की चूत चाट रहे थे और मैं उन्हें देख रही थी। मतलब दोनों ने मजा लिया और दोनों ने खूब सेक्स किया।

अपने हनीमून पर मैं अपने पति के अलावा तीन और मर्दों से चुदी।

जब हनीमून से वापिस हम अपने घर दिल्ली आए, तो थोड़े दिनों बाद मैंने अपने पति से कहा- अगर मैं आपसे कुछ कहूँ तो आप बुरा तो नहीं मानोगे?
वो बोले- अरे यार, बुरा मानने वाली क्या बात है, खुल कर बोलो!

मैंने कहा- जब हम अपने हनीमून पर गए थे, तो हम वहाँ क्लब में भी गए थे न!
‘हाँ हाँ, गए थे?’ राज बोले।
मैंने थोड़ा डरते हुये कहा- वैसे कोई क्लब यहाँ दिल्ली में नहीं है क्या?
राज मेरी तरफ देख कर मुस्कुराए और बोले- क्यों किसी गैर मर्द का लंड लेने को दिल कर रहा है?
मैंने दुपट्टे में अपना मुँह छुपा लिया और सर हिला कर हाँ बोल दिया।

मेरे पति ने मुझे अपनी बाहों में भर लिया, बोले- अरे यार, सच कहूँ, मेरा भी बहुत दिल कर रहा है, सच तो यह है कि मुझे तुम्हें किसी और मर्द की बाहों में देखना बहुत अच्छा लगता है, मैं पता करता हूँ, अगर कोई क्लब मिल गया तो चलेंगे और दोनों एंजॉय करेंगे।

अगर आप एक ऐसे ही मौज मस्ती करने वाले कपल हैं, तो इनबॉक्स में अपनी सारी जानकारी लिख भेजिये, और हम दोनों पति पत्नी आप दोनों के साथ एंजॉय करने के लिए तैयार है। थ्रीसम की कोई ऑप्शन नहीं है, हम दो आप दो, चारों मिल कर मजा करेंगे, चार से छह आठ भी हो तो भी कोई दिक्कत नहीं, फालतू के मैसेज मत भेजें। सिर्फ कपल ही संपर्क करें।

एक दिन दोपहर को मैं अपने घर में कुछ काम कर रही थी, क्योंकि काम वाली बाई आई नहीं थी, मैंने खुद ही बाहर आँगन में पानी डाल कर झाड़ू लगाना शुरू कर दिया।
अब झाड़ू लगाते लगाते मेरे सीने से मेरा आँचल हट गया, मैंने भी इस बात पर कोई खास ध्यान नहीं दिया। मगर हमारे पड़ोस में रहने वाला शर्माजी का बेटा मुझे देख रहा था। मुझे क्या असल में वो मेरी भरी भरी गोरी गोरी चुची ताड़ रहा था।

अचानक मेरी नज़र उस पर पड़ी। मैंने देखा वो फिर भी बेशर्मो की तरह खड़ा रहा, और उसका हाथ उसकी निकर के ऊपर ऊपर था। मतलब मेरी चुची देख कर वो अपना लंड सहला रहा था।

मैंने उसे देखा, वो मुझे देख रहा था, पहले तो गुस्सा आया कि हरमजादे क्या देख रहा है, फिर सोचा, नौजवान पट्ठा है, कच्चा केला, क्यों न खा लूँ।
मैंने उसे देख कर स्माइल दे दी।
वो तो खुश हो गया।

अब मैं आंगन का फर्श धोते धोते बार उसे देख रही थी, अब मैंने खुद अपनी साड़ी इस तरह कर दी कि वो मेरे यौवन के भरपूर दर्शन कर सके।
मेरी तरफ से लिफ्ट मिलने पर वो और भी दिलेर हो गया।
फिर मैंने अपना मास्टर स्ट्रोक खेला और उसे आँख मार दी।

बदले में उसने भी मुझे पहले आँख मारी फिर फ्लाइंग किस की। मैंने उसे बुलाने का इशारा किया और अपना काम निपटा कर अंदर चली गई।

थोड़ी देर में ही वो आ गया- आंटी, आपने बुलाया था, कुछ काम था क्या?
वो बड़े भोलेपन से बोला।
मैंने कहा- हाँ रिशु, एक छोटा सा काम था, अगर तू मेरे लिए कर दे?
वो बोला- आप बताओ, मैं आपका सब काम कर दूँगा।

मैंने कहा- मेरी न, टांग में मोच आ गई है, दर्द हो रहा है, मूव लगा देगा?
वो बड़ा खुश हो कर बोला- हाँ जी लगा दूँगा।

मैंने उसे ड्राअर से मूव निकाल कर दी और जाकर बेड पर बैठ गई। वो मूव ले कर मेरे पास आया- आंटी कहाँ मोच आई है?
मैंने अपना आँचल अपने सीने से हटा कर नीचे रख दिया, ताकि वो मेरे उन्नत स्तनो को देख सके। मैंने अपनी साड़ी अपने घुटने तक उठा दी- यहाँ, घुटने के पास!
मैं बोली।

मेरी गोरी चिकनी टांग देख कर उसका मुँह खुला का खुला रह गया। मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने घुटने पर लगाया- यहाँ पे यार! मैंने जान बूझ कर उसे यार कहा।
उसने अपने हाथ पे मूव लगाई और मेरे घुटने पे हल्के हल्के से मलने लगा। मगर मेरे घुटने से जो करंट चला वो उसके हाथ से होते हुये उसकी निकर में जाकर लगा।
मैंने उसके हाथ पकड़ कर अपने घुटने से थोड़ा ऊपर अपनी जांघ पे रखा- यहाँ भी दर्द है यार!
और मैंने अपनी साड़ी एक तरफ से अपनी पूरी जांघ से ऊपर उठा दी, मेरी पेंटी भी उसने देख ली।

वो क्रीम हाथ में लेकर मेरी सारी जांघ पर मलने लगा और उसका तना हुआ लंड उसकी निकर में साफ दिख रहा था।
मैंने पूछा- बात सुन, अगर मैं तुझे और कोई काम कहूँ तो करेगा?
‘हाँ जी!’ वो बोला।
‘किसी को बताएगा तो नहीं?’ मैंने फिर पूछा।
‘नहीं जी!’ वो बोला।

मैंने उसका हाथ पकड़ा और अपने सीने पर रखा- खा मेरे दिल की कसम!
उसने हल्के से मेरे बूब को अपने हाथ में पकड़ा और बोला- आपके दिल की कसम किसी को नहीं बताऊंगा।
मैंने सोचा यही मौका है, मैंने उसकी निकर में खड़े उसके लंड की तरफ इशारा कर के कहा- मुझे ये चूसना है।

उसका चेहरा एकदम से लाल हो गया- जी!
बड़ी मुश्किल से वो बोल पाया।
मैंने पूछा- चुसवाएगा अपना लंड अपनी आंटी से?
वो कुछ नहीं बोल पाया।
मैंने अपने ब्लाउज़ के सभी बटन एक एक करके खोल दिये, वो आँखें फाड़े मेरे ब्लाउज़ को खुलते हुये देख रहा था। ब्रा मैंने पहनी नहीं थी, ब्लाउज़ के बटन खोल कर मैंने एक एक पल्ला हटा कर उसको अपनी दोनों चुची के दर्शन करवाए तो उसके मुँह से ‘वाउ’ निकला। मतलब उसको मेरी गोरी और भरी हुई चुची पसंद आइ।

अपनी दोनों चुची पर उसके दोनों हाथ पकड़ के रख दिये और कहा- दबा इन्हें!
वो मेरी चुची दबा कर मजा लेने लगा तो मैंने खुद उसका लंड पकड़ लिया, उसे अपने सीने से लगा लिया तो उसने मेरी चुची चूसनी शुरू कर दी।

मैंने उसके निकर खोली और जब निकर और चड्डी उतारी तो नीचे कोई 5 इंच लंबा मोटा मगर थोड़ा थोड़ा भूरा सा लंड मेरे हाथ में आ गया।
मैंने उसकी चमड़ी पीछे हटानी चाही मगर नहीं हटी और उम्म्ह… अहह… हय… याह… उसको भी तकलीफ हुई।

मैंने कहा- कभी इस्तेमाल नहीं किया अपने औज़ार का?
वो बोला- नहीं आंटी, अभी तक कुँवारा हूँ।
मैंने कहा- मुझे देगा अपना कौमार्य?
वो बोला- बिल्कुल, आप पर लुटाऊँगा!

मैं नीचे बैठ गई और उसका लंड अपने मुँह में ले लिया।
सच में कुँवारी लुल्ली का टेस्ट ही कुछ और होता है।

उसने अपने दोनों हाथ मेरे सर पे रख लिए और उसका पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया।

शनिवार की दोपहर, मैं और मेरे पति दोनों बेड पे लेटे टीवी देख रहे थे।
तभी पति बोले- अरे सुन!
‘जी?’ मैंने कहा।
‘चूत देगी?’ वो बोले। मैंने कहा- धत्त, ऐसे पूछते हैं क्या?
वो बोले- ओ के, लंड लेगी?
‘शर्म तो नहीं आती, कैसी घटिया बातें कर रहे हो?’ हालांकि हलचल मेरे दिल में भी शुरू हो चुकी थी।

‘अरे यार, न तुम कुछ दे कर राज़ी हो, न लेकर राज़ी हो?’ कहते हुये वो उठ खड़े हुये और खिड़की के पास जाकर खड़े हो गए।
‘अरे यार!’ वो एकदम से बोले।
मैंने कहा- क्या हुआ?
उन्होंने मुझे हाथ का इशारा करके बुलाया, मैं भी खिड़की के पास गई, सामने छत पर पड़ोसी की बेटी पापड़ सुखा रही थी।

पहले उसका मुँह हमारी तरफ था, तो उसके टॉप के गले के अंदर से उसकी चुची दिख रही थी, जिसे मेरे पति बड़ी प्यासी निगाहों से देख रहे थे।
फिर वो घूम गई, अब उसकी पीठ हमारी तरफ थी, तो उसकी स्कर्ट जो हवा से हल्के हल्के उड़ रही थी, तो उसकी गोरी गोरी टाँगें और जांघें नज़र आ रही थी।

मैंने अपने पति से कहा- छोड़ो परे, बच्ची है, आप इधर आओ, हम अपना ही कुछ देखते हैं।
मगर वो बोले- अपना तो रोज़ ही देखते हैं, अगर सीमा तुम मुझे इस लड़की की चुत दिलवा दो तो मजा आ जाए।
मैंने कहा- ऐसे कैसे संभव है?
वो बोले- देख तूने शर्मा के लड़के का कच्चा केला खाया न, मैंने कुछ कहा, तो अब मुझे भी इस कच्ची कली के हुस्न को चखना है, जैसे भी हो इंतजाम कर!
मैं तो सोच रही थी कि ये मेरे पे अपना ज़ोर आजमायेंगे, मगर इन्हें तो अब वो लड़की ही चाहिए थी।

अब हम दोनों पति पत्नी की इतनी अंडर स्टैंडिंग है कि हम एक दूसरे को अपने दिल की हर एक बात बता देते हैं।

मैंने कोशिश शुरू की और कुछ दिनों बाद मैंने उस लड़की को अपनी बातों में उलझा कर मना लिया।

फिर एक शनिवार की दोपहर, और उस दिन हम दो नहीं हम तीन थे, मैं, मेरी पति और वो लड़की… उसी नीले रंग की फ्रॉक में!
पहले मैंने उस लड़की को सारी बातें अच्छे से समझाई, वैसे तो हर बात समझती थी, पर फिर भी मैंने उसको साफ साफ समझाया कि उसके साथ क्या होने जा रहा है।

जब बात हो गई तो शुरुआत करने के लिए सबसे पहले मैंने अपने कपड़े उतारे और बिल्कुल नंगी हो गई।
फिर मेरे पति ने अपने कपड़े उतारे और वो भी बिल्कुल नंगे हो गए। उनका लंड तो पहले से ही अकड़ा पड़ा था।

हम दोनों ने नंगे होने के बाद किसिंग शुरू की, फिर उन्होंने मेरे बूब्स चूसे।
वो खड़ी सब कुछ देख रही थी, उसके चेहरे के हाव भाव बता रहे थे कि उसकी चूत गीली हो चुकी है।

तब मैंने का हाथ पकड़ा और अपने पास बुलाया, मेरे पति ने उसके कंधे पे हाथ रखा और उसे अपनी तरफ घुमाया, उसकी नज़रें मेरे पति के खड़े लंड पर ही टिकी थी।
मैंने अपने पति का लंड उसके हाथ में पकड़ाया, थोड़ी सी हिचकिचाहट के बाद उसने पकड़ लिया।

राज ने उसे अपने गले से लगा लिया, अपने दोनों हाथ उसकी पीठ पर फेरते हुये नीचे ले गए और उसके दोनों चूतड़ पकड़ कर दबाने लगे।
लड़की को भी शायद मजा आया, उसने भी मेरे पति के कमर के गिर्द अपनी बाहें लिपटा दी।

राज ने उसे एक झटके से अपनी गोद में उठाया और बेड पे लेटा दिया। सबसे पहले इन्होंने उसकी स्कर्ट ऊपर उठा कर अंदर देखा।
मैंने पूछा- यह क्या देख रहे हो?
वो बोले- बचपन से ये ख़्वाहिश दिल में थी कि लड़कियों की स्कर्ट उठा कर नीचे देखूँ! सच में बड़ा सेक्सी ख्याल है यह… और हर लड़का आदमी लड़की को स्कर्ट में देख कर ज़रूर सोचता है कि इसकी स्कर्ट के नीचे क्या होगा, मैंने भी वही देखा।

उसके बाद इन्होंने उसकी स्कर्ट उसकी कमर तक उठा दी, नीचे उसने मरून कलर की पेंटी पहनी थी, इन्होंने उसकी जांघों पे हाथ फेर और फिर यहाँ वहाँ कई जगह चूमा, अपनी जीभ से उसकी जांघें चाटी भी!
वो लड़की लेटी लेटी कसमसा रही थी।

इन्होंने उसकी चड्डी के ऊपर से ही उसकी चूत को चूमा और चाटा भी… जहाँ उसकी चूत थी, उस जगह पर जैसे केक खाते हैं, अपना पूरा मुँह खोल कर उस सारी जगह को अपने मुँह में ले गए, जैसे उसकी चूत को खा जाने चाहते हों।
लड़की ने इनका सर अपने दोनों हाथों में पकड़ लिया।
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

फिर इन्होंने उसको उठा कर बैठाया, उसकी टॉप के सारे बटन खोले और उसकी स्कर्ट उतार दी। नीचे से उसने सिर्फ अंडर शर्ट और पेंटी ही पहनी थी।
मैंने हेल्प करते हुये उसकी अंडर शर्ट भी उतार दी, दो छोटी छोटी चुची जैसे दो कटोरियाँ उल्टी रखी हों, हल्के गुलाबी निप्पल!

मेरे पति ने पहले बड़ी हसरत से उसके दोनों बूब्स को दबा कर देखा और फिर उसके निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगे।
मैंने पूछा- कैसे हैं?
वो बोले- जन्नत का नज़ारा है, जैसे किसी अप्सरा का बदन हो, कितना नाज़ुक, कितना नमकीन!
कह कर वो फिर उसकी चुची पीने लगे।

दिल तो मेरा भी मचल रहा था, मैं नीचे को लेट गई और अपने पति का लंड चूसने लगी।
थोड़ी चुची पीने के बाद मेरे पति ने उस लड़की की पेंटी भी उतार दी।

उसकी चूत के आस पास हल्के हल्के बाल थे, मगर काम में अंधे मर्द को बाल वाल कहाँ दिखते हैं, मेरे पति ने फिर वैसे ही उसकी सारी चूत अपने मुँह में ले ली और अंदर ही अंदर जीभ डाल कर चाटने लगे।

वो बेचारी तो तड़प उठी- अंकल!
वो बस इतना ही बोली।
मैंने अपनी एक चुची उस लड़की के मुँह से लगा दी, वो ऐसे पीने लगी जैसे अपनी माँ का दूध पी रही हो।

पति ने अपने हाथ की एक उंगली मेरी चूत में डाल दी, दूसरी मेरी गांड में… और लगे चलाने!
मैंने कहा- यार ऐसा मत करो, मेरा मन करने लगेगा!
वो बोले- करने दो।

लड़की को अपनी चुची चुसवाते हुये मैं भी अपनी कमर हिलाने लगी।
लड़की भी बार बार अपनी कमर हिला रही थी।
फिर मेरे पति बोले- बेटा सुनो, अगर तुम तैयार हो तो अंदर डालूँ!

उसने हाँ का इशारा किया तो मेरे पति ने अपना लंड उसकी चूत पे रखा- ‘पहले कभी कुछ लिया है अंदर?
मेरे पति ने पूछा।
वो बोली- हाँ कभी कभी जब मेरा दिल करता था, तो कुछ न कुछ ले लेती थी, पर ज़्यादातर उंगली ही लेती थी।

फिर मेरे पति ने जब धक्का मार कर अपना लंड उसकी चूत में डाला तो एक बार तो वो तड़पी, मगर मेरे पति ने उसका बदन सहला कर, उसको चूम कर, उसकी चुची पी कर उसे शांत किया और धीरे धीरे प्यार से धक्के मारते हुये अपना पूरा लंड उसकी कुँवारी चूत में घुसेड़ दिया।

Check Also

गर्लफ्रेंड को झाड़ियों में ले जाकर चुदाई की

एक शादी में एक लड़की मुझे अच्छी लगी, वो भी मुझसे नैन लड़ा रही थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *