Home / Antarvasna Hot Sex Story - Adult Sex Stories / वाइफ़ स्वैपिंग किसकी बीवी किसका पति-3

वाइफ़ स्वैपिंग किसकी बीवी किसका पति-3

नहाकर उसने बेड शीट और टॉवल वाशिंग मशीन में डाले और कमरा ठीक किया।
उसने सोच लिया था कि माही को बस इतना ही बताना है कि रवि आया था और नाप लेकर चला गया।

श्वेता फटाफट बाजार के लिए निकल गई और लौटते में पनीर ले आई।
पनीर पकोड़ा के साथ ड्रिंक और फिर पोर्न मूवी… बस इतना ही चाहिए माही को मस्त करने के लिए…

आकर उसे वाशरूम फिर जाना पड़ा… रवि के प्यार की निशानी की बूँदें उसकी चूत से अब भी निकल रहीं रहीं थीं।
श्वेता ने हैण्ड शावर से चूत को अंदर तक धोया और फिर भी उसने यह सोचा कि आज माही चूत ना चूसे तो अच्छा रहेगा।
और अगर माही नहीं माना तो… इसका इलाज़ भी उसने सोच लिया।

पकोड़े उसने कच्चे सेक लिए और एक टू पीस का बहुत ही छोटा नाईट वियर पहन लिया और उसके ऊपर हाउस गाउन डाल लिया।
माही का 6 बजे ही फोन आ गया था कि वो 8 बजे तक आएगा।

8.15 तक माही आया और श्वेता को इस अंदाज में देख और उसके बदन से आती मदहोश करने वाली खुशबू को सूंघ वो समझ गया कि श्वेता आज मूड में है।
वो फटाफट नहाकर और कुरता लुंगी पहन कर आ गया क्योंकि श्वेता ने कहा था कि बाहर लॉन में ड्रिंक लगा रही हूँ।

श्वेता ने अपने लिये जूस और माही के लिए पेग बनाया।
पकोड़े बहुत मजेदार बने थे और बैठते ही श्वेता का गाउन एक ओर हो गया तो उसकी चिकनी टांगें देखकर माही का लंड तो सलामी देने लगा।

उनकी कोठी की बाउंड्री इतनी ऊंची थी कि बाहर से या बगल से कुछ नहीं दीखता था तो माही के कहने पर श्वेता ने गाउन उतार दिया।

लॉन में बहुत हल्की रोशनी थी और उसमें श्वेता का लगभग नंगा बदन… माही को व्हिस्की पीने से पहले ही नशा चढ़ गया था।
माही लॉन में डले झूले पर बैठा और श्वेता को बगल में बिठाकर उसके मम्मों को चूसने लगा।

श्वेता ने गिलास उठाया और अपने लबों से लगाकर माही को एक घूँट पिला कर उसे गिलास थमा दिया और पकोड़े खिलाने लगी।

आधे घंट बाद माही श्वेता को लेकर अंदर आ गया और आते ही उसने श्वेता को वहीं कुर्सी पर बिठाकर उसकी चूत में अपनी जीभ से उसकी चूत को चुसलाने लगा।

चूत में जीभ लगते ही उसे मीठा मीठा महसूस हुआ… श्वेता ने अपनी चूत में चॉकलेट लगा रखी थी।
यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

उसकी यही अदाएँ माही को दीवाना बना देती थीं।

माही उसको अभी चोदना चाहता था पर श्वेता ने मना किया कि पहले डिनर कर लो फिर..

डिनर के बाद जो धम्माल मचा तो शायद उसके बेड की भी एक दिन में इतनी शामत कभी नहीं आई होगी।

रवि का कोई जिक्र होने का वक़्त ही नहीं मिला।

श्वेता की चूत आज मदमस्त हो गई थी।
आज श्वेता थक कर ऐसी सोई कि उसे यह भी होश नहीं रहा की अपना मोबाइल संभाल लेती जिसके व्हाट्सएप में रवि के अनेक मेसेज थे।
वो तो वक़्त उसका अच्छा था कि माही ने उसके मोबाइल को देखा ही नहीं।

सुबह श्वेता ने उठते ही अपना मोबाइल देखा तो रवि के सारे मेसेज डिलीट किये।

माही के ऑफिस जाने के कुछ देर बाद ही रवि का फोन आ गया, वो बोला- पता नहीं कल कैसे मैं अपने पर काबू नहीं रख पाया और अगर आपको बुरा लगा हो तो मैं आज के बाद कभी शक्ल नहीं दिखाऊँगा।
श्वेता हंस पड़ी… सच रवि बहुत भोला था।

श्वेता ने रवि को लंच पर अन्नपूर्णा रेस्टोरेंट में दोपहर दो बजे बुलाया।
लंच पर दोनों ने आपस में वादा किया कि वो अच्छे दोस्तों की तरह रहेंगे और अपने पर कंट्रोल करेंगे।

अचानक श्वेता ने महसूस किया कि एक व्यक्ति उन दोनों को ध्यान से देख रहा है।
रेस्टोरेंट से बाहर आते ही उसने रवि को यह बताया और रवि से कहा कि उसने जो भी प्लान उसके बाथरूम और बेडरूम का बनाया हो वो अभी उसके घर माही के आने से पहले भेज दे।

अब श्वेता का दिमाग तेजी से काम कर रहा था।

रवि की रफ ड्राइंग उसके पास 5 बजे तक आ गईं थीं, जिन्हें उसने बाहर मेज पर ही फैला कर रख दिया था।

शाम को माही सात बजे करीब आया और उसका मूड कुछ ठीक नहीं था।

श्वेता को यह अंदाज हुआ कि शायद उस व्यक्ति ने माही को कुछ कहा है।

अन्दर आते ही माही को पानी देकर श्वेता ने उसे रवि के पेपर्स दिए और बताया कि रवि ये पेपर्स देने घर आना चाहता था तो उसे अच्छा नहीं लगा कि माही की गैरमौजूदगी में रवि ज्यादा घर आये इसलिए श्वेता ने रवि को अन्नपूर्ण रेस्टोरेंट में बुला लिया था और वहीं ये ड्राइंग्स डिसकस कर लीं।

यह सुनते ही माही खिल गया।
सही बात यह थी कि उस व्यक्ति ने जो माही का डीलर था, माही को कहा था कि उसने रवि आर्किटेक्ट को श्वेता के साथ रेस्टोरेंट में देखा था।
तो माही का मूड कुछ अपसेट हो गया था पर जब श्वेता ने बिना उसके पूछे सब बात बता देने से उसे कोई शिकायत नहीं रही।

श्वेता ने माही को इस बात के लिए मन लिया कि अगले दिन सुबह 9 बजे वो और माही रवि के ऑफिस जायेंगे, सारी डिजाईन फाइनल करने।

हालाँकि इसमें माही का कोई रुझान या टेस्ट नहीं था पर श्वेता चाहती थी कि माही और रवि की मुलाकात हो।

अगले दिन 9 बजे श्वेता और माही रवि के ऑफिस में थे।
रवि ने बड़ी गर्मजोशी से मुलाकात की।

ड्राइंग फाइनल होने के बाद रवि दोनों को अंदर घर पर ड्राइंग रूम में ले गया जहाँ उनकी मुलाकात रवि की पत्नी हिना से हुई।

हिना खूबसूरत और चंचल स्वभाव की लड़की थी।
पांच मिनट बाद ही ऐसा लग ही नहीं रहा था कि वो पहली बार मिले हैं।

हिना ने श्वेता से तो बहन का रिश्ता बना लिया और माही से हंस कर बोली- आज से आप मेरे जीजू…

माही ने मजाक में कहा- तो आज से मैं ये मान लूँ कि आप मेरी साली यानि…
इस वाक्य को पूरा हिना ने कर दिया- हाँ, आज से मैं आपकी आधी घरवाली…

सब हंस पड़े उसकी इस बेबाकी पर।
यह हिन्दी सेक्स कहानी जारी रहेगी।

Check Also

गर्लफ्रेंड को झाड़ियों में ले जाकर चुदाई की

एक शादी में एक लड़की मुझे अच्छी लगी, वो भी मुझसे नैन लड़ा रही थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *