Home / Antarvasna Hot Sex Story - Adult Sex Stories / बीवी की चुदाई गैर मर्द से-2

बीवी की चुदाई गैर मर्द से-2

वाइफ सेक्स स्टोरी इन हिन्दी का पिछला भाग: बीवी की चुदाई गैर मर्द से-1

अब मैंने अपनी वाइफ को बिस्तर में पेट के बल लेटा दिया और उसकी कमर और पीठ चाटने लगा.

वो मस्त हुए जा रही थी.
मैंने नीरा से कहा- तुम इतनी हॉट हो गयी हो कि मेरा तो ऐसी ही निकल गया था. फिर तुम्हारे लिए दूसरा बुलाना पड़ता.
आज नीरा ने कुछ नहीं कहा.

फिर मैंने उसके बदन को चूमते हुए उसकी चूत के लन्ड डाल उसकी चुदाई शुरू कर दी.

नीरा बेचायन हो उठी.
मैंने चोदते हुए नीरा से पूछा- नीरा, मजा आ रहा है ना?
नीरा- हाँ अमन, बहुत मज़ा आ रहा है. ओह्ह ओह्ह शश्श … ह्ह्ह!

मैं- नीरा तुमको गाली दे सकता हूँ मैं?
नीरा- हाँ दे दो. दो मुझे गाली दो!

अमन- ओहह नीरा … तुम तो आज रंडी की तरह चुद रही हो.
नीरा- मैं रंडी ही हूँ … तुम्हारी रंडी! चोदो औऱ तेज चोदो! जैसे मर्ज़ी चोदो मुझे!
मैं- नीरा तुम अब एक साथ दो दो लन्ड ले सकती हो. मेरी जान बोलो ले सकती हो न?
नीरा- हाँ दो … मुझे दूसर लन्ड भी दो.

अपनी बीवी के मुख से ऐसे शब्द सुनकर मेरा ज्यादा देर टिके रहना मुश्किल हो गया था.
और खुद नीरा भी मदमस्त हो रंडियों की तरह बड़बड़ा रही थी!

मैंने लन्ड नीरा की चूत से बाहर निकाल दिया और साफ करने लगा. उसमें नीरा की चूत का पानी ही इतना लग चुका था.

नीरा- अमन, बाहर क्यों निकाल दिया? ये लन्ड अंदर डालो न प्लीज़! आओ फ़क मी यार!
मैंने उसकी चूत पर लगा पानी साफ किया और झटके से लन्ड अंदर डाल दिया.

नीरा- ओह्ह अमन … मज़ा आ रहा है आज तो! मुझे पता होता शराब से इतना मज़ा आता है तो मैं रोज पीती.
मैं- ये मज़ा शराब से नहीं, हम दोनों के खुल कर बोलने से आ रहा है मेरी जान!

अब झटके तेज करते हुए मैंने स्पीड बढ़ा दी- नीरा, तुमको किसी और लन्ड से चुदने का मन है तो चुदवा दूं? मेरी जान बताओ तुमको और मोटा लन्ड चाहिये?
नीरा खामोश थी. कुछ नहीं बोली.

मैंने लन्ड पूरा बाहर निकालते हुए फिर तेजी से अंदर डालते हुए पूछा- बताओ मोटा लंड चाहिए तुम्हें?
नीरा- ओह्ह श्सशह!
करते हुए हाँ में सर हिला दिया.

उसका हाँ में सर हिलाना मेरी जीत का प्रतीक था.

मैंने उसी वक्त राज जी के लन्ड की फ़ोटो जो मेरे फ़ोन में थी, नीरा को दिखा दी- देखो जान, ऐसा लन्ड होगा. मज़ा आएगा न?
नीरा ने आँखें बंद कर मुझे कस लिया- अमन … ओह्ह ओह्ह!
करते हुए वो मस्ती में चुदवा रही थी.

मैंने उसे फील करने के लिए कहा- सोचो ये लन्ड तुम्हारी चूत में जा रहा है. राज के हाथ तुम्हारे जिस्म को छू रहे हैं. राज तुम्हारे बूब्स को चूस रहा है.
ये सब सुनते ही नीरा सिस सिस्स … करती हुई तेज करने को कहने लगी.
मैंने उसे बोला- अमन नहीं, राज कहो!

नीरा चरम पर थी उसने ‘राज और तेज करो … राज चोदो मुझे! अहह!’ करते हुए स्खलन कर दिया.
उसके मुँह से ये सब सुन मेरा भी निकल गया हम।
दोनों बिस्तर में नंगे ही सो गये.

2 घण्टे बाद नींद खुली नीरा बिस्तर में नंगी ही पड़ी थी. उसे मज़ा आया था.
फिर भी मैंने उसको कम्फर्टबल महसूस करवाने के लिए पूछ लिया- जान लन्ड कैसा लगा फोटो?
वो मुस्कुरा कर बोली- अच्छा है. उसके लन्ड की नसें तनी हुई हैं.

मैं- तुमको चाहिये वो मज़ा?
नीरा- नहीं, मुझे नहीं चाहिये.
मैं- क्यों क्या हुआ?
नीरा- नहीं, बदनामी का डर है. मुझे नहीं करना.
“बातों में तो कर सकते हैं ना?”
नीरा- हाँ बातों में कर लो मेरी जान!

मैं- तो बताओ तुम किसी गैर मर्द से चूत चटवाओगी या गांड?
नीरा- दोनों ही!

मैंने उसे विश्वास दिलाया कि तुम मेरी वाइफ हो. सही गलत तब होता जब तुम या मैं चुप कर ये काम करते, अकेले करते. अभी तो हम दोनों की मर्ज़ी से होगा.
लेकिन नीरा ने मना कर दिया.

अब आगे की वाइफ सेक्स स्टोरी इन हिन्दी मेरी बीवी के शब्दों में:

हम दोनों ने मेहंदी का मज़ा लिया. खूब डांस किया. लड़के घूर घूर कर मेरे डीप बेक वाले ब्लाउज से मेरे बदन को घूर रहे थे.
मंजू का चचेरा भाई सोनू भी उनमें से एक था.

मैं उन सबकी हवस भरी नज़रें और डांस करते हुए मेरे हिप्स को छूने से ही उनके इरादे भांप गयी थी. लेकिन पता नहीं क्यूँ मुझे भी अच्छा लग रहा था. शायद गैर मर्द के बारे में जो भी दिन में मेरे पति ने मुझे बोला था, उसका असर था.

रात 2 बजे अमन ने सोने का इशारा किया. मन तो नहीं था लेकिन जाना तो था ही.
सोनू हमें मकान तक छोड़ने आया. और दरवाजे पर छोड़कर जाते हुए बोला- किसी चीज़ की जरूरत हो तो बता दीजियेगा.
अमन अंदर आते हुए शरारती अंदाज़ में बोले- बुलाना है क्या? जरूरत है क्या मेडम को उसकी?
मैं- चुप बदमाश!
बोलते हुए मैंने भी हंस कर अमन की बात का जवाब दिया.

अमन ने अब पीछे से आकर मुझे पकड़ते हुए मेरे गाल पर किस करते हुए पूछा- तो मैडम, क्या विचार है अब?
मैं- कुछ विचार नहीं है. थकान हो गयी है. सोते हैं.

अमन- बड़ी मुश्किल से तो अकेले रहने का मौका मिला है. ऐसे कैसे जाने दें मैडम?
मैं- अच्छा जी. तो क्या चाहते हैं आप?

अमन ने मेरी साड़ी खोलते हुए मेरी नाभि में किस करना शुरू कर दिया. मैं भी शांत खड़ी होकर उसके चुम्बन का मज़ा लेने लगी.

फिर हम दोनों ने एक दूसरे को नंगा कर बिस्तर में लेट गए. अमन मेरी चूत में जीभ डालने लगे. मुझे उनके इस तरीके से बेचैनी होने लगी, मानो शरीर में चीटियाँ रेंग रही हों.
दो दो महीने बाद सेक्स करने को मिलेगा तो ऐसा होना स्वाभाविक है.

तभी मेरे मुँह से अहह ओहह निकलने लगी.
अमन मुझे लेटाकर मेरे ऊपर आ गये. उन्होंने मेरे कान पर काटते हुए मेरे दोनों हाथ कस कर पकड़ लिये. फिर अपना लन्ड मेरी दोनों जाँघों के बीच रगड़ते हुए मेरे होंठ चूसने लगे.

मैं गर्म होने लगी. मेरी चूत लन्ड की रगड़ खाकर गीली होने लगी. मेरे जिस्म में अमन के चुम्बन के वार मुझे बेचैन करने लगे.

मैंने अमन से कहा- अमन डालो न. तड़पाओ मत!
लेकिन अमन इतनी आसानी से मेरा कहा कहाँ मानते.
उन्होंने मेरे कान में बोला- मैं नहीं डाल रहा. जाओ सोनू को बुला लो!
और कान पर जीभ फेर दी.

मैं- नहीं अमन, ऐसी बातें मत करो प्लीज़!
अमन- क्यों जान तुम्हें मजा नहीं आता सुनकर?
मैं- नहीं … नहीं आता मज़ा!
अमन- खाओ मेरी कसम. नहीं आता मज़ा?

मैं दुविधा में थी कि कैसे कसम खा कर बोलूं.
ऐसी कौन होगी जिसे एक मर्द के साथ सम्भोग की बात सुन मज़ा नहीं आये. या उस नारी का मन नहीं करेगा.
मैं ना बोलती तो कैसे उन्होंने कसम भी अपनी दी थी.

उनके दो बार और दबाव देने पर मैंने बोल दिया- हाँ मजा आता है. लेकिन मैं आपके होते हुए किसी दूसरे मर्द के साथ में कैसे कर सकती हूँ.

फिर उन्होंने मुझे राज की कहानियों का लिंक दिया और कहा- इन्हें बाद में पढ़ना. फिलहाल तुम बस महसूस करो कि सोनू तुम्हारी चूत चाट रहा है.
मैं चुपचाप लेट गयी और उनकी बातें सुनती रही.

वो बोलते गए और मेरे जिस्म को गर्म करते गए.
मैं कब तक खुद को कंट्रोल करती. मैंने भी अमन का साथ देना शुरू कर दिया और हम दोनों स्खलित हो सो गए.

शादी निपटने के बाद अमन मुझे वापस ससुराल छोड़कर जॉब पर चले गए.

दिन तो काम में कट जाता लेकिन रात रात में अकेलेपन में कुछ नहीं था करने को. अमन मुझसे थ्रीसम की बातें करते. फ़ोटो दिखाते और वीडियो भेजते. जिन्हें देख मेरी भी इच्छा होती कि किसी दूसरे मर्द से चुद कर देखा जाए. लेकिन आखिर मैं हूँ तो भारतीय नारी … लोकलाज भी देखनी पड़ती है.

एक दिन अमन का कॉल आया. उन्होंने बताया कि वे कुछ दिनों के लिये बाहर जा रहे हैं. जल्दी लौट आएंगे.
तो मैंने अमन से कहा- तब तक मेरे दिन कैसे कटेंगे?

उन्होंने मुझे राज की कहानी के लिंक दिए और कहा- इन्हें पढ़ो. फिर बताना कैसी लगी.

रात में मैंने एक लिंक खोल कर वाइफ सेक्स स्टोरी इन हिन्दी पढ़ी. और उसने मेरी ज़िंदगी में एक बड़ा बदलाव ला दिया.
उस कहानी को पढ़ते वक्त मैं 2 बार स्खलित हो गयी. मुझे ऐसा मन करने लगा मानो अभी किसी गैर से चुद जाऊं.

एक एक कर मैंने सारी कहानियाँ पढ़ी. मुझे अनुभव हो चुका था कि राज एक अनुभवी खिलाड़ी है.

कुछ ही समय बाद अमन मुझे अपने साथ गाजियाबाद ले गए. नया फ्लेट लिया था. लोग अनजान थे तो बात किसी से नहीं होती थी. न किसी को मतलब था कि कौन आ रहा है कौन जा रहा है.
अब अमन और मैं रोज दूसरे मर्द के बारे में बात करते हुए सेक्स करते.

एक दिन अमन में मुझे फ़ोन कर बताया कि मेरा एक फ्रेंड आ रहा है. एक दो दिन रहेगा साथ में!
मुझे यह नॉर्मल लगा सब कुछ!
मैंने पूछा- क्या बनाऊँ उनके लिए खाने में?
अमन शरारती अंदाज़ में बोला- बना लो जो भी बनाना हो. नहीं बनाओगी तो तुम्हें खायेगा वो बेबी!
मैंने भी बोल दिया- खा जाने दो. मैं भी तैयार हूं.

शाम हुई. डोर बेल बजी.
मैंने दरवाजा खोला तो देखा अमन के साथ कोई और भी था. मेरे पति की उम्र का. 5’3″ हाइट. रंग साँवला. न ज्यादा मोटा. न ज्यादा पतला दिखने वाला.

वो शख्स मुझे देख मुस्कुरा कर बोला- नमस्ते नीरा जी, कैसी हैं आप?
मैंने भी जवाब में नमस्ते की.

अमन ने अपने दोस्त को कमरा दिखाया और बैग रख देने के लिए कहा.

मैं किचन में जाकर पानी लेने गयी. वापस आते हुए मैंने अमन और राज की बात सुनी.

अमन- राज, आप फ्रेश हो लीजिये. फिर बात करते हैं आराम से बैठ कर! वैसे आपको नीरा कैसी लगी?
राज- अच्छी है भाई बहुत सुंदर है.
अमन- आप फ्रेश हो जाइए फिर बैठ कर बात करेंगे.

अमन के मुँह से राज नाम सुनकर ही मैं सन्न हो गयी थी.
ओह … तो ये हैं राज … जो कहानी लिखते हैं.

एक तरफ मुझे चूत में गुदगुदी सी हो रही थी कि आज गैर मर्द के साथ सम्भोग की प्यास बुझेगी. और एक तरफ डर भी लग रहा था कि पता नहीं क्या होगा आज?
ऐसा सोचते सोचते मैं अंदर कमरे में गयी, राज और अमन को पानी दिया और राज को एक नज़र निहार कर बाहर आ गई.

मैंने अमन से कहा- खाना लगा दूं?
अमन- नहीं, अभी थोड़ी देर बैठेंगे हम. उसके बाद खाएंगे.

अमन ने स्नेक्स और शराब की बोटल निकली और टेबल पर रख दी. इशारे में मुझे ड्रिंक्स के लिए पूछा.
मैंने मना कर दिया कि अनजान के सामने कैसे पी लूं. वो क्या सोचेगा मेरे बारे में!

अमन बोटल से एक पटियाला पेग बना कर किचन में लाये और मुझे देते हुए बोले- लो. वो अभी अंदर है. तुम यहीं पर पी लो.
मैं समझ रही थी कि बकरा काटने से पहले उसे चारा चराया जा रहा है.

Check Also

गर्लफ्रेंड को झाड़ियों में ले जाकर चुदाई की

एक शादी में एक लड़की मुझे अच्छी लगी, वो भी मुझसे नैन लड़ा रही थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *