Home / Antarvasna Hot Sex Story - Adult Sex Stories / फ्री हिंदी सेक्स हॉट भाभी संग

फ्री हिंदी सेक्स हॉट भाभी संग

मैंने अन्तर्वासना भाभी की चुदाई की. उसने मुझे मेल किया और मिलने के लिए कहा. मैं उसके घर पहुंचा. मैंने उस हॉट भाभी संग कैसे मजा लिया. फ्री देसी हिंदी सेक्स कहानी में पढ़ें.

सबसे पहले आप सभी को मेरा नमस्कार!
मेरा नाम हैप्पी (बदला हुआ नाम) है. मैं दिल्ली का रहने वाला हूं. मेरी उम्र 24 साल है. मैं एक मिडल क्लास परिवार से सम्बन्ध रखता हूँ. मेरा लंड 7 इंच लम्बा है जो हर तरह की प्यासी औरत, भाभी, आंटी या किसी सेक्सी जवान लड़की, किसी को भी संतुष्ट कर सकता है।

दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ. अन्तर्वासना की फ्री देसी हिंदी सेक्स कहानी पढ़े बिना चैन ही नहीं मिलता है। एक दिन मन में विचार आया कि आज अपनी भी जीवन की सच्चाई लिख डालूं. अगर कुछ गलती हो जाये तो माफ करना.

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूं. सेक्स स्टोरी पढ़ने का तो मुझे शौक है ही, साथ ही मैं अन्तर्वासना पर हमेशा फ्री देसी हिंदी कहानी पढ़ने के बाद टिप्पणी बॉक्स में अपना कमेंट जरूर करता हूं.

एक दिन मेरे पास एक मेल आया। मैंने देखा तो वो एक महिला का मैसेज था. मैंने मेल देखा तो उसमें लिखा था कि वो महिला मेरा व्हाट्सएप नम्बर मांग रही है और अंत में लिखा था आपके रिप्लाई का इंतजार रहेगा.

मेरे भी मन में बहुत खुशी हो रही थी. मैंने अपना नम्बर उस महिला को सेंड कर दिया। अलगे दिन दोपहर के बाद मेरे व्हाट्सप्प पर एक अज्ञात नम्बर से मैसेज आया।

हैलो, मैं रानी। (बदला हुआ नाम)
मैं- कौन रानी?
रानी- कल आपने अपने मेल से नम्बर सेंड किया था न?
मैं- अच्छा आप! बहुत प्यारा नाम है आपका रानी।

रानी- अच्छा इतना पसंद आया मेरा नाम?
मैं- हां. तो कहिये आपने नम्बर किसलिए मांगा था?
रानी- वो मैंने अन्तर्वासना पर आपका कमेंट देखा था. मैं अभी थोड़ी देर के बाद में बात करती हूं.
मैं- ठीक है.

इतना लिखकर रानी ऑफलाइन हो गयी और मैं अपने काम में लग गया. फिर शाम को घर आया और फ्रेश होकर मैंने नेट चालू किया और काम करने लगा. तभी रानी का मैसेज आया.

रानी- हैलो, क्या कर रहे हो?
मैं- बस घर आया हूं.
रानी- क्या करते हो आप?
मैं- जॉब करता हूं। और आप क्या करती हो?
रानी- मैं हाऊसवाइफ हूं.

मैं- आपकी उम्र क्या है?
रानी- मैं 31 की हूं और आप?
मैं- 24 का हूं। आप 31 की लगती नहीं हो. बहुत मेंटेन करके रखा है आपने अपने आप को।
रानी- अच्छा। शादीशुदा हो आप?
मैं- नहीं। आपके परिवार में कौन कौन है?

रानी- मेरा पति, बेटा, बेटी।
मैं- अभी क्या कर रही हो?
रानी- कुछ नहीं, अकेली बैठी हूं. बोर हो रही थी तो आपको मैसेज कर दिया।

फिर हम कुछ देर तक बातें करते रहे और फिर वो खाना बनाने चली गयी. मुझे इतना तो पता चल गया था कि मेरे लंड को एक नयी हॉट भाभी की चूत मिलने वाली है. रानी का पति होते हुए भी वो मुझसे इंटरेस्ट लेकर बातें कर रही थी.

मैं उसके बारे में सोचते हुए लंड को पैंट के ऊपर से मसलने लगा. लंड भी तनतना गया. मैंने प्यार से लंड को सहलाते हुए उसको दिलासा दिया- थोड़ा सब्र कर बेटा, चूत जल्दी ही मिलने वाली है तुझे.

फिर मैं भी खाना खाने चला गया और वापस आकर टीवी चालू की. थोड़ी देर देखते हुए नींद आने लगी तो फिर मैं टीवी बंद करके सो गया.
फिर कुछ दिन हम ऐसे ही नॉर्मल बातें करते रहे और बीच बीच में कभी नॉनवेज मैसेज भी सेंड कर देते और बातें भी कर लेते थे।

एक दिन रानी का मैसेज आया और वो बोली- क्या कर रहे हो?
मैंने बोला- कुछ नहीं, जॉब पर हूं.
रानी बोली- क्या हम मिल सकते हैं आज?
मैंने मन में सोचा कि ये तो बहुत जल्दी मान गयी है.

फिर मैंने बोला- आज ही मिलना है क्या?
रानी बोली- आज घर पर कोई नहीं है और मैं अकेली बोर हो रही हूं तो सोचा आपको बुला लेती हूं.
मैंने बोला- ठीक है, आप मुझे अपना एड्रेस सेंड करो, मैं आता हूं एक घण्टे के भीतर।

उसने मुझे अपना एड्रेस सेंड कर दिया और मैं सर को कुछ जरूरी काम का बोल कर जल्दी से एक टैक्सी लेकर उसके बताये पते पर पहुंच गया. उसकी गली में आकर उसे कॉल किया और बोला- मैं तुम्हारी गली में खड़ा हूँ.

तो वो बोली- आगे आ जाओ, मैं बाहर गेट पर खड़ी हुई इंतजार कर रही हूं.

मैं उसके घर के पास गया और उसने मुझे अंदर आने का इशारा किया. मैंने जल्दी से अंदर आकर गेट को अंदर से लॉक कर दिया. जैसे ही मैं मुड़ा वो वहीं पर मेरे गले लग गयी. मैंने भी उसको अच्छी तरह से गले से लगाया और उसकी चूचियों की कोमलता अपने सीने पर महसूस भी की.

उसके मोटे मोटे दूध जब मेरी छाती से लगे तो इतने ही इशारे में लंड महाराज भी खड़े हो गये.
फिर हम अलग हुए और रानी ने मुझे अंदर बुला कर सोफे पर बैठाया.

वो रसोई में से मेरे लिए पानी लेकर आई और मैंने पानी पीकर वापस गिलास उसको दे दिया। वो अंदर चली गयी.

मैं उसके घर को देखने लगा. बहुत ही आलीशान मकान था. उसके मकान को देख कर लग रहा था कि वो बहुत रईस परिवार से है।

इतने में वो वापस बाहर आई तो मैं उसको देखता ही रह गया. वो सेक्सी हॉट भाभी एक रेड जालीदार नाइटी पहन कर आयी और उसकी नाइटी के अंदर से उसकी पिंक कलर की ब्रा और पैंटी बहुत ही आसानी से दिख रही थी।

मुझको उसे इस तरह से घूरते हुए देख कर वो बोली- क्या हुआ ऐसा, कहां खो गये हो?
मैं तंद्रा से बाहर निकल कर हड़बड़ा कर बोला- कु..कु… कुछ नहीं, बस ऐसे ही।

फिर मैंने बोला- आप बहुत ही हॉट और सेक्सी हो. बहुत ही ज्यादा खूबसूरत लग रही हो.
रानी बोली- अच्छा, अगर मैं तुम्हें इतनी पसंद आई तो फिर इस हॉट और सेक्सी लेडी को तुम मस्त कर दो ना?

इतना कहते हुए उसने मेरे होंठों पर एक किस कर दिया और मेरी गोद में अपनी गांड को रखते हुए मेरी जांघों पर आकर बैठ गयी. उसने मेरे होंठों से अपने होंठों को लगा दिया और मेरे होंठों का रसपान करने लगी.

मैं भी उसका साथ दे रहा था और उसके होंठों को चूसने लगा और एक हाथ उसके बालों में डालकर उसको लिप्स पर अपने लिप्स से कस कर भींच दिया और दूसरे हाथ को नीचे लेकर उसकी मस्त कोमल गांड को मसलने लगा.

फिर मैंने किस करते हुए उसको अपनी गोदी में उठाया और उठा कर उसको बेडरूम में लेकर गया. रानी को मैंने बेड पर नीचे गिरा दिया और खुद उसके ऊपर आ गया. फिर उसके लिप्स को किस करते हुए उसके 34D के बूब्स को उसकी नाइटी के ऊपर से ही मसलने लगा.

मेरा ये जादू रानी पर चल गया और वो सेक्स के लिए काफी उत्तेजित होने लगी. वो जोर जोर से सिसकारियां लेने लगी. फिर मैंने उसको खड़ी किया. उसके शरीर से नाइटी को निकाल कर एक साइड फेंक दिया.

वो ब्रा और पैंटी में किसी पोर्न फिल्म की मॉडल जैसी लग रही थी. उसकी ब्रा में कैद मैं उसके मोटे मोटे बूब्स को दबाने लगा और साथ ही उसकी गर्दन पर किस करने लगा. कभी मैं उसको काट लेता और वो कराह जाती.

रानी भाभी गर्म हो चुकी थी और जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी- आह्ह अम्म … आहा … ओह … हम्म … करके वो मेरे चुम्बनों का पूरा मजा ले रही थी. फिर वो एकदम से खड़ी हो गयी और मेरे कपड़ों को उसने जल्दी जल्दी से खोल कर उतार दिया. मैं अंडरवियर में था.

उसने मेरे लंड को मेरे अंडरवियर के ऊपर से पकड़ कर खींच दिया. मुझे दर्द हुआ तो मैंने भी उसकी चूचियों को पकड़ कर भींच दिया. फिर उसने मेरे अंडरवियर को भी निकाल दिया.

मेरे लंड को देख कर बोली- ओह माय गॉड! इतना मोटा और बड़ा लंड! ऐसा लंड तो मैंने आज तक नहीं देखा. वो मेरे लंड को हाथ में लेकर धीरे धीरे सहलाने लगी. उसके साथ खेलने लगी.

कभी लंड को तो कभी मेरी गोटियों को सहलाती और किस करती. मैंने उसके मुंह पर लंड रख कर चूसने का इशारा किया तो फिर उसने मेरे लंड के टोपे को अपने होंठों से रगड़ना चालू कर दिया. मैंने उसके मुंह को पकड़ कर लंड को अंदर उसके मुंह में डाल दिया.

वो मेरा लंड आइस क्रीम की तरह चूसने लगी और मेरे मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं और मैं उसके बालों को पकड़ कर में उसके मुंह को चोदने लगा. मेरा मोटा लंड उसके मुंह में पूरी तरह से समा भी नहीं रहा था.

फिर मैं उसके मुंह में जोर जोर से धक्के मारने लगा और साथ ही एक हाथ को उसकी पीठ पर ले जाकर उसकी ब्रा का हुक खोल कर उसके मोटे मोटे दो कबूतरों को आजाद कर दिया और उसको मसलने लगा.

5 मिनट तक लंड चुसवाने के बाद मैंने लंड को बाहर निकाल दिया. उसको बेड पर लिटा कर मैंने उसकी पैंटी को उसकी मस्त गोरी मोटी मोटी जांघों से अलग कर दिया. उसकी चूत एकदम बिना बालों के चमक रही थी. शायद मेरे लिये ही उसने अपनी चूत को ब्यूटी पार्लर में चमकाया था.

मैं उस हॉट भाभी की चूत को धीरे धीरे सहलाने लगा तो उसकी चूत पानी छोड़ने लगी. उसके मुंह से अहह.. उम्म्म अह्ह … उम्म्म … अह्ह … की सिसकारियां निकलने लगीं. थोड़ी देर चूत को सहलाने के बाद मैं चूत पर जीभ फेरने लगा. रानी अब बुरी तरह से तड़पने लगी.

मैं एक उंगली डाल कर उसकी चूत में आगे पीछे करने लगा जिससे रानी अपनी गांड उठा कर मजा लेने लगी. उसकी चूत में और आग लगने लगी. मैं उंगली करते हुए उसकी चूत पर अपनी जीभ को अंदर डाल कर उसकी चूत का अमृत पीने लगा.

उस भाभी की चूत का स्वाद नमकीन था जो सेक्स का नशा चढा़ने के लिए पर्याप्त था. उसी टाइम रानी मेरे बालों को पकड़ कर मेरे मुंह को पूरा अपनी चूत पर दबाने लगी.

मैं रानी की चूत को बहुत ही आनंद लेकर चाट रहा था. उसकी चूत का नमकीन पानी सारा अंदर ले रहा था. थोड़ी देर के बाद रानी मेरे मुंह पर दबाव बढ़ाने लगी. अपनी गांड को आगे पीछे करते हुए बहुत जोर से सिसकारियां मारने लगी.

वो सिसकारते हुए बोलने लगी- आह्ह… हैप्पी… खा जाओ मेरी चूत को, ये चूत सिर्फ सिर्फ तुम्हारी है.
फिर जोर जोर से आवाजें करते हुए रानी ने मेरे मुंह में जोरदार बारिश कर दी. मैं उसकी चूत का बूंद बूंद रस चूस गया और वो निढाल होकर तेज तेज सांसें लेने लगी.

फिर मैं भी उठ कर उसकी बगल में बेड पर जाकर सो गया. उसकी चूचियों के साथ खेलने लगा. उसके दूधु को चूसने लगा. वो मेरे लंड को अपने कोमल हाथों से सहलाने लगी.

थोड़ी देर में ही वो फिर से गर्म होने लगी. उसने मेरे लंड को एक बार फिर से मुंह में भर लिया और चूसने लगी. मैं फिर खड़ा हो गया और उसको सीधी लेटा कर उसकी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा.

वो जोर जोर से सिसकारियां भरने लगी और बोली- आह्ह हैप्पी… अब डाल दो प्लीज… मुझे मत तड़पाओ, मिटा दो मेरी सालों की प्यास, अपने मोटे लंड से चोद कर मेरी चूत को शांत कर दो. अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है… आह्ह.. ऐसे मत रगड़ो… आह्ह लंड को अंदर दे दो… आह्ह … प्लीज चोदो मुझे।

उसकी तड़प को देख कर मैंने भी अपने लंड पर थूक लगा लिया और उसकी चूत के द्वार पर रख कर धीरे से झटका मारा. मेरे लंड का टोपा जैसे ही अंदर गया तो वो चिल्लाई और मेरे एक झटके के साथ ही पूरा लंड उसकी चूत में उतर गया.

वो जोर जोर से चिल्लाने लगी. उसको बहुत दर्द हो रहा था. उसकी आंखों में आंसू आ गये थे और वो बोलने लगी- इसे एक बार बाहर निकालो प्लीज… इतना मोटा लंड नहीं बर्दाश्त हो रहा है चूत में, एक बार निकाल लो हैप्पी.

मगर मैंने लंड को बाहर नहीं निकाला और उसकी चूत में ही लंड को रख कर उसके होंठों को चूसते हुए उसके बूब्स को सहलाने लगा. थोड़ी देर के बाद ही उसने अपनी गांड को ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया. मैं भी इशारा पाकर उसकी चूत में अपने लंड को धीरे धीरे आगे पीछे करने लगा.

रानी अब जोर जोर से सिसकारने लगी. उसके मुंह से- आह्ह… उम्म… आह्ह आहा… आईईयाह… जैसी कामुक आनंद की सिसकारियां फूटने लगी.
मेरे लंड को लेते हुए वो बड़बड़ाने लगी- आह्ह … फाड़ डालो चूत को, मेरी प्यास मिटा दो. मैं तुम्हारी रखैल हूं मेरे राजा.

मैं भी जोश में आकर उसकी चूत को पेलते हुए बहुत ही तेज रफ्तार से उसकी चूत का भरता बनाने लगा. फिर थोड़ी देर के बाद उसकी दोनों टांगों को मेरे कंधों पर रख कर एक ही बार में पूरा लंड मैंने उसकी चूत में उतार दिया. मैं पूरी तेज रफ्तार से उसकी चुदाई करने लगा.

कुछ देर के बाद रानी का शरीर अकड़ने लगा. उसने मेरे लंड को अपनी चूत के पानी से नहला दिया. वो झड़ कर शांत हो गयी. मगर मेरा काम अभी नहीं हुआ था.

मैंने उसको उल्टा किया और उसकी चूत को चोदने लगा. दस मिनट के बाद मेरा माल भी निकलने को हो गया. मैंने बहुत जोर जोर से झटके मारना शुरू कर दिया और मेरा वीर्य उसकी चूत में भरने लगा.

स्खलित होने के बाद मैं भी उसके ऊपर गिर गया और थोड़ी देर बाद उससे अलग हुआ. वो उठी और बाथरूम में चली गई. फिर अपनी चूत को उसने साफ किया और मेरे बगल में आकर लेट गयी और उस दिन मैंने तीन बार उसकी चूत की चुदाई की.

वो बहुत ज्यादा खुश नजर आ रही थी. फिर शाम को मैं उसके घर से निकलने लगा तो उसने मुझे गिफ्ट दिया और बोली- तुमने मुझे वो सुख दिया है जो मैं पिछले 10 सालों से चाहती थी.

यह कहकर उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मुझसे लिपट गयी. मैंने भी उसको किस किया और वहां से निकल गया. ये था हॉट भाभी सेक्स का मजा!

उसके बाद मैं रानी को कई बार चोद चुका हूं. उससे गिफ्ट मिलने के बाद मैंने भी सोचा कि क्यों न दूसरी जरूरतमंद औरतों को भी ऐसा ही सुख दूं.

इसलिए रानी से मिलने के बाद मेरा सफर वहां से शुरू हो गया. उसने अपनी भाभी की चूत मुझसे ही चुदवाई. फिर अपनी सहेली की चूत भी दिलवाई.

उसके बाद मेरी लाइफ में कौन कौन सी घटनाएँ हुई हैं वो समय समय पर मैं आप लोगों के लिए लेकर आता रहूंगा.
इस फ्री देसी हिंदी सेक्स कहानी के बारे में मैं आपके विचार जानना चाहता हूं. इसलिए आपसे रिक्वेस्ट है कि आप अपनी प्रतिक्रियाएं मुझे अवश्य भेजें. इसके लिए आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने विचार रख सकते हैं. मैंने अपना ईमेल भी दिया हुआ है. आप मुझे ईमेल भी कर सकते हैं.

Check Also

गर्लफ्रेंड को झाड़ियों में ले जाकर चुदाई की

एक शादी में एक लड़की मुझे अच्छी लगी, वो भी मुझसे नैन लड़ा रही थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *