Home / Antarvasna Hot Sex Story - Adult Sex Stories / पति के बॉस से चूत गांड चुदवा कर मजा आया

पति के बॉस से चूत गांड चुदवा कर मजा आया

मेरा नाम चंद्रलेखा है. चन्द्र प्रकाश मेरा चोदू है, उसी के आई डी पर ही अपनी हिंदी सेक्स कहानी लिख रही हूँ.
मेरी उम्र अब 34 साल है. मेरा बदन बहुत सेक्सी दीखता है. 38-36-40 की हूँ… थोड़ा सा फिगर में फर्क आ गया है अब… लेकिन मेरी जुल्फें काली घनी और लम्बी हैं. मेरी चूची बहुत आकर्षक और डी साइज़ की हैं. मेरी गांड गोल और चिकनी है.

शादी से पहले मुझे मेरे चचेरे भाई ने मुझे बहुत चोदा, मुझे भी अपने भाई से चुदे बिना चैन ही नहीं आता था, रोज़ की ही आदत सी पड़ गई थी. भाई होने से कभी किसी को शक भी नहीं हुआ. हमारा घर भी एक ही था, कभी कभी तो मुझे बुखार भी हो गया तो भी मैं चुदवाने का मौका तो छोड़ती ही नहीं थी.

जो कहानी मैं सुनाने जा रही हूँ वह अन्य कहानियों की तरह बनावटी नहीं हैं. यह मेरी सच्ची हिंदी सेक्स कहानी है.

अब आप जान ही गए कि चुदक्कड़ तो मैं पहले से ही थी लेकिन शादी के बाद बहुत बंधन हो गया. कोई मौका नहीं मिलता था. कभी कभी मेरा चचेरा भाई मिलने के बहाने आकर मेरी चूत चुदाई कर जाता था. वैसे मेरे पति का लंड भी 7 इंच का है, वे मेरी चुदाई खूब करते भी हैं, फिर भी उनका टूरिंग जॉब है इसलिए मेरी प्यास तो बनी ही रहती है. खूब तांक झांक करके भी मुझे उतनी सफलता नहीं मिलती थी.

एक बार मेरे पति संजय ने मुझसे पूछा कि क्या मैं उसके साथ टूर पर जाना चाहती हूँ.
मैंने ख़ुशी से हाँ कर दी.
संजय ने बताया कि उसको एक मीटिंग में बंगलौर जाना है और इस मीटिंग में ही उनका बॉस उनके काम की भी रिपोर्ट बनाएगा.
मैं कोई बच्ची तो थी नहीं, खेली खाई थी, मुझे शक हो गया कि इससे पहले कभी साथ नहीं ले गए, अबकी बार कुछ तो है.

मैं उनके साथ टूर पर बड़े ही उछालते कूदते दिल से गई. पर थोड़ा ऊपर से नियंत्रण भी रखा. बंगलौर में पहुँचने पर हम एक फाइव स्टार होटल में रुके. इनके बॉस ने एक मशहूर क्लब में डिनर पर बुलाया. डिनर में मैं पूरी सज धज के साथ शिफान की नीले रंग की साड़ी पहन कर गई. इसमें मैं सचमुच बहुत सुन्दर लग रही थी.

डिनर टेबल पर मेरे सामने एक चार्टेड अकाउंटेंट (सी ए) बैठा था, एक तरफ दायीं ओर संजय मेरा पति और बाएं इनके बॉस थे.
बॉस 6’1″ से ज्यादा ऊँचा बहुत ही आकर्षक युवक था, उम्र अधिक से अधिक 28 साल होगी.

उसने मुझे बहुत तारीफ़ भरी नज़रों से देखा और मुझे पूछा- आप ड्रिंक्स में क्या लेंगी?
मैं ड्रिंक नहीं करती थी, कोल्ड ड्रिंक ही लेना चाहती थी. पर एक बार बकार्डी की कोल्ड ड्रिंक कभी पी थी तो सोचा लिम्का शिमका से उतना इम्प्रेशन नहीं पड़ेगा जितना बकार्डी से!
मैं नहीं जानती थी कि बकार्डी की हार्ड ड्रिंक भी आती है. तो बकार्डी का बोल दिया. पति महाराज ने भी नहीं टोका.

बकार्डी जब पीने लगी तो पता चला लेकिन फिर जरा मॉडर्न बने के चक्कर में बॉस के आग्रह पर पीती चली गई. इस बीच में मैं कुछ फ्रेंक सी हो गई और बातों का आनन्द आने लगा.

दूसरा दौर शुरू हुआ तो पतिदेव उठकर वाशरूम में चले गए. तभी बॉस ने अपने पैर के पंजे से मेरे पैर को छू दिया. मैंने भी इसका जवाब इसी तरह दिया, मैं तो इस पहल का इंतजार ही कर रही थी.

थोड़ी देर बाद संजय वापिस आया तब तक कुछ बहाना स बनाकर सी ए साब मेरी दायीं ओर बैठ चुके थे. पति जी बिना किसी हिचक सामने जा बैठे.

ड्रिंक चल रही थी, टेबल के नीचे से बॉस का दायाँ हाथ कभी कभी धीरे से मेरी गोद में और फिर तो मेरी चूत के मुख पर पहुँच जाता था, मैंने भी अपनी टांगों को थोड़ा चौड़ा कर दिया था ताकि आसानी से चूत पर मसाज हो जाए.

संजय के हाव भाव से ऐसा बिलकुल नहीं लगा कि उसको इसकी जानकारी हो गई है या उसकी जानकारी में ही ये सब हो रहा हो.

इधर सी ए साब भी कुछ कुछ कर रहे थे. मैं बॉस के लंड पर पैन्ट के ऊपर से ही हाथ रख कर लंड की लम्बाई का नाप लेती जाती थी जो बढ़ता ही जा रहा था. बीच में दायें हाथ से एकाध बार सी ए साब के लंड की भी खबर ली.
बॉस का तो कम से कम 8-9 इंच का होगा सी ए का 6-7 का तो होगा ही.

खाना ख़त्म हुआ. मैंने सोचा बस ये खेल भी यही ख़त्म हो गया. पर हमको होटल छोड़ने वे दोनों ही आये. मैं अपने कमरे में आ गई और शीशे के सामने खड़ी होकर खुद को देख देख कर यही सोचती रही कि ‘हाय… किसी तरह इस जवान बॉस का लंड खाने को मिलता तो जवानी का आनन्द आ जाता.’

लेकिन मुझे कुछ होता नज़र नहीं आया.

मैं अपने कमरे से उन सबके पास नहीं जा सकती थी क्योंकि संजय के मन का मुझे अभी भी पता नहीं था. मैंने सिर्फ नाईटी पहन ली जिसमें मेरा मांसल बदन झलक-छलक रहा था. मैं खुद पर ही फ़िदा हो रही थी… चुदास के मारे मेरा बुरा हाल था.

मैं बिस्तर में लेट गई. इन तीनों की आवाजें अभी भी सी ए के रूम से आ रही थी. बॉस को तो अपने घर जाना था.
लेकिन ये तीनों फिर पीने बैठ गए.

बॉस ने सोचा होगा कि संजय को पिला कर बेहोश कर दें तो इसकी बीवी को मज़े से चोदा जा सकता है. हुआ भी वही… संजय जल्दी ही लुढ़क गया और बॉस उसको सी ए की निगरानी में छोड़ कर मेरे कमरे में घुस आया. दरवाज़ा संजय के लिए खुला हुआ था ही!

बॉस को देख कर मैं गदगद हो गई पर मैंने सोने का नाटक किया.
बॉस ने अपने सारे कपड़े फटाफट उतार फेंके और मेरे सिरहाने आकर मेरे गालों पर अपना गरमागरम लंड फिराने लगा.

मुझे तो जैसे स्वर्ग मिल गया था, मैं कब से मना रही थी कि ये युवक मुझे चोद डाले.

अब उसने अपना लंड मेरे होंठों पर रख दिया. वाह… क्या मज़ा आ रहा था. मैंने मुख खोलना शुरू किया. धीरे से लंड का सुपारा अन्दर गया फिर आधे के लगभग लंड मेरे मुख में घुस गया था. अब तो मैंने आँखें खोल दी और बॉस से चिपट गई यह कहते हुए कि ‘जल्दी से चोद दो, कहीं संजय आ गया तो मेरा सपना ही टूट जायेगा.’

उसने कहा- चिंता मत कर जान, वो नहीं आएगा, उसको सी ए रोक कर रखेगा, उसे होश भी नहीं है.
और फिर मेरी नाईटी उतार फेंक कर वो मेरी टाँगें हवा में उठा कर जैसे पूरा ही चूत में घुस गया.

मेरी चूत में वो कभी तो लंड डाले निकाले और कभी जीभ से चाटे, फिर अचानक लंड घुसेड़ दे.
वो इतना उत्तेजित था कि जैसे बहुत कम समय में कई तरह से चोद लेना चाहता हो. वो चोदना बंद ही नहीं कर रहा था. मैं भी उसे नहीं छोड़ना चाहती थी लेकिन कहीं संजय आ गया तो क्या होगा. संजय बाबू वाले रूम में ही तो था. डर के मारे मैं परेशान भी थी.

तभी बॉस ने मेरे कान में कहा- तू चिंता न कर, संजय खुद ही तुझे चुदवाने लाया है. बस मज़ा ले तू तो मेरे लंड का!
मुझे विश्वास सा तो नहीं हुआ पर अपनी चूत खूब चुदवाई पूरे जोर शोर से सारी चिंता छोड़ कर और अपनी सिसकारियों की भड़ास निकालते हुए.

मेरी सिसकारियों की आवाज़ से सी ए, जो बॉस के बाद चोदने आने वाला था, खुद को रोक नहीं पाया और वो भी आ गया. अब ये दोनों एक साथ मुझे चोद रहे थे. किसी का लंड मुख में तो दूसरे का चूत या हाथ में!

बॉस तो एक बार जिद करने लगे कि मेरी गांड में पेलना चाहते हैं. मैंने रोका तो मान गए लेकिन फिर दोबारा कुछ चढ़ी तो मेरी गांड में ही पेल दिया. दर्द तो हुआ पर मज़ा भी आया.

वे दोनों मुझे रात भर चोदते रहे. संजय पता नहीं क्या करता रहा.

मैं उस रात तीन बार झड़ी वे भी दोनों भी दो दो तीन तीन बार झड़े.

फिर संजय कब मेरे पास आया मुझे पता नहीं.

और मुझे आज तक यह भी पता नहीं चला कि क्या संजय को इस चुदाई का पता चल गया था और क्या वही मुझे अपने बॉस और सी ए से उनकी डिमांड पर चुदवाने लाया था!

Check Also

गर्लफ्रेंड को झाड़ियों में ले जाकर चुदाई की

एक शादी में एक लड़की मुझे अच्छी लगी, वो भी मुझसे नैन लड़ा रही थी. …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *