Home / जवान लड़की की चुदाई / जयपुर की कुँवारी चूत का भोसड़ा बना डाला-2

जयपुर की कुँवारी चूत का भोसड़ा बना डाला-2

Jaipur ki kuwari choot ka bhosda bana dala-2

फिर मैंने उससे उन सबकी वजह पूछी तो वो बोली कि आपके रहते ही इस बार मेरे बहुत अच्छे नंबर आए है, क्योंकि आपने मुझे बहुत कुछ बताया मेरी बड़ी मदद की है और अब में भी थोड़ा सा आगे बढ़ने लगा था और कभी कभी में भी अच्छा मौका उसका मूड देखकर उसके हाथ को चूम लिया करता था और अब हम दोनों समय बीतने के बाद इतने करीब आ गये थे कि हम एक ही कंबल के अंदर बैठकर रात को अपनी पढ़ाई किया करते थे और में जानबूझ कर उसके पास उससे चिपकने की कोशिश किया करता, लेकिन वो मेरी इस हरकत का कभी बुरा नहीं मानती थी.

फिर एक दिन पता नहीं उसको पढ़ाई करते समय अचानक से नींद आ गयी और अब वो बैठे बैठे ही मेरे कंधे पर अपना सर रखकर सोने लगी. फिर मैंने कुछ देर बाद उसका सर अपनी गोदी में रखकर उसको लेटा दिया और उसके बाद में उसके बालों में अपने एक हाथ को फेरने लगा था और तभी थोड़ी देर के बाद मुझे भी अब नींद आने लगी थी, तो मेरा हाथ चलते चलते अचानक से रुक गया और तभी अचानक से वो बोली कि क्या हुआ भैया (वो मुझे हमेशा भैया ही बुलाती थी) आप हाथ चलाओ ना, मुझे बहुत अच्छा लग रहा है?

मैंने फिर से अपने हाथ को उसके सर पर चलना शुरू कर दिया और अब उसने अपनी दोनों आखें बंद कर ली. अब मेरा लंड कुछ देर बाद पाजामे के अंदर खड़ा होने लगा था, इसलिए मुझे लगा कि में अब अपने पर काबू नहीं रख सकता और बाहर हॉल में सभी लोग सो रहे थे, इसलिए में उठकर बाथरूम में चला गया और कुछ देर बाद वापस रूम में आकर मैंने उससे कहा कि तुम यहीं पर सो जाओ, में बाहर हॉल में चला जाता हूँ.

वो बोली कि नहीं आप भी यहीं पर सो जाओ ना, जल्दी सुबह तो फिर हमें उठना ही है, उसके मुहं से वो बात सुनकर मैंने अंदर से दरवाजे को बंद कर दिया और फिर से में उस बेड पर आ गया. अब उसने एक बार फिर से अपना सर मेरी गोद में रख दिया और इस बार वो करवट लेकर लेटी हुई थी, इसलिए उसके वो गोरे बड़े आकार के बूब्स मेरे पेट से छू रहे थे और वो मुझे उसके बड़े आकार के गले से बाहर निकलकर नजर भी साफ साफ आ रहे थे.

अब में धीरे धीरे उसके गालों और बालों को सहला रहा था और मेरे ऐसा करने की वजह से मेरा लंड एक बार फिर से खड़ा होने लगा था, लेकिन अब मेरा लंड खड़ा होकर उसके गाल चूम रहा था और उसकी वजह से मुझसे रहा नहीं गया और मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके उसके गालो को चूम लिया, लेकिन वो वैसे ही सोती रही इसलिए मेरी थोड़ी सी हिम्मत बढ़ गई.

मैंने धीरे से उसके बूब्स को चूम लिया, लेकिन अब तो उसने अपनी आखों को खोल दिया था, इसलिए में एकदम से बहुत डर गया था, लेकिन अब भी वो मुझसे कुछ भी नहीं बोली और अब वो हल्का सा मेरी तरफ मुस्कुराकर एकदम सीधी होकर सो लेट गई. अब में भी उसका वो इशारा समझकर तुरंत उसके पास में लेट गया और अब में उसके बूब्स को सहलाने लगा था, लेकिन तब भी वो चुप ही रही और अब में उसके बूब्स के निप्पल को ज़ोर से दबाने लगा था.

वो मुझसे कहने लगी आईईईई प्लीज धीरे धीरे करो मुझे बहुत दर्द होता है में समझ चुका था कि अब वो भी गरम होने लगी थी और उसको भी मेरे साथ यह सब करने में बड़ा मज़ा अब आने लगा था. फिर मैंने अब हिम्मत करके उसका एक हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया और फिर वो पाजामे के ऊपर से ही मेरे लंड को धीरे धीरे सहलाने के साथ साथ उसके ऊपर हाथ घुमाकर उसकी लम्बाई मोटाई को महसूस करने लगी थी.

यह कहानी आप HotSexStory.xyz में पढ़ रहें हैं।

अब मैंने उसकी टी-शर्ट को ऊपर कर दिया और मुझे उसकी काले रंग की ब्रा में उसके बड़े आकार के बूब्स बहुत कसे हुए नज़र आने लगे, वो देखने पर ऐसे लगे कि जैसे उनको उस ब्रा के अंदर जबरदस्ती ठूसकर बंद किया गया हो और वो ब्रा को फाड़कर बाहर आने के लिए बहुत मचल रहे थे और वो काले रंग की ब्रा उसके दूध जैसे गोरे बदन पर बहुत जंच भी रही थी.

अब मैंने फिर बिना देर किए उसकी ब्रा का हुक खोलकर उसके उन दोनों कबूतरों को बिल्कुल आज़ाद कर दिया, जिसकी वजह से वो अब मेरे सामने आकर मुझे अपनी तरफ ललचाने लगे थे और अब में उन दोनों को धीरे धीरे सहलाने दबाने लगा था, जिसकी वजह से अब उसकी वो निप्पल जोश में आकर उठ गई थी.

फिर वो कुछ देर बाद मुझसे कहने लगी कि प्लीज अब आप मेरा दूध पियो और मेरे बूब्स को अपने मुहं में लेकर इनको ज़ोर ज़ोर से चूसना शुरू करो और फिर इतना कहकर उसने अपने ही एक हाथ से अपने एक बूब्स को पकड़कर मेरे मुहं में डाल दिया, तो में खुश होकर उसको चूसने लगा था और वो आह्ह्ह्हह्ह ऊऊह्ह्ह्हह मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है और ज़ोर से चूसो ऊऊह्ह्ह्ह आह्ह्हह्ह्ह्ह और तभी उसने जोश में आकर अपने एक हाथ से मेरा पज़मा नीचे किया तो मेरा पांच इंच का खड़ा लंड अब उसके हाथ में आ चुका था. मुझे उसको देखकर लगा कि उसने लंड शायद पहली बार देखा था इसलिए वो बड़े ध्यान से मेरे लंड को कुछ देर देखती रही.

फिर वो मुझसे बोली कि भैया यह क्या है? यह तो डंडे जैसा लग रहा है. फिर मैंने उससे कहा कि इसी डंडे के लिए सभी कुंवारी शादीशुदा लड़कियाँ, औरतें मरती है वो इसके साथ बड़े मज़े किया करती है यह रह किसी को खुश किया करता है, यह पूरी दुनिया इसी की वजह से चल रही है और अब तुम ज़रा यह बातें यहीं पर खत्म करके इसको अपने मुहं में लेकर देखो, तुम्हे भी बड़ा मज़ा आने लगेगा.


Source link

Check Also

जयपुर की कुँवारी चूत का भोसड़ा बना डाला-1

Jaipur ki kuwari choot ka bhosda bana dala-1 हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम अनिल है और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *